अकथ कहानी प्रेम की

पुस्तक: अकथ कहानी प्रेम की- कबीर की कविता और उनका समय
लेखक: प्रो. पुरुषोत्तम अग्रवाल
प्रकाशक: राजकमल प्रकाशन

बहुत कम किताबों के साथ ऐसा होता है कि वह छपने के साथ ही व्यापक चर्चा का केंद्र बन जाती हैं. प्रो. पुरुषोत्तम अग्रवाल की कबीर पर किताब ऐसी ही कुछ किताबों में एक है जो उनके कबीर को पढ़ते-गुनते विगत तीस सालों के निरंतर शोध का परिणाम है जिसे वह ‘जिज्ञासा-यात्रा’ की संज्ञा देते हैं. यह यात्रा कबीर की कविता के ज़रिये उनकी आध्यात्मिकता, प्रेम-संवेदना और सामाजिकता को समझने की कोशिश करती है. इस यात्रा में देशज मनीषा और औपनिवेशिक हस्तक्षेप की समानान्तर पड़ताल राह बनाती चलती है. यात्रा के अंत तक कबीर की विराट छवि उभरती है, वहीं अब तक स्वार्थ, सुविधा और संकीर्णता के संकुचित सांचे में ढाली गयीं कबीर की कई प्रतिमाएं ढह जाती हैं अपने ढालने वालों के साथ. आलोचना संस्कृति का अनिवार्य तत्व है. कबीर अपने समय को पढ़ रहे थे, लेखक कबीर और उनके समय को पढ़ रहा है. इस प्रक्रिया में वह अपने यानि हम सबके समय को भी पढ़ता है. इस तरह वह इस सांस्कृतिक कार्य को साधते हुए संस्कृति को भी पढ़ता है. इसीलिए यह किताब साहित्य के विद्यार्थियों-अनुरागियों के लिये ही नहीं, सामाजिक विज्ञान और सांस्कृतिक अध्ययन से जुड़े लोगों के लिये भी महत्वपूर्ण हो जाती है.

किताब में दस अध्याय हैं. पहले अध्याय में प्रो अग्रवाल ने कबीर के अध्ययन की समस्याओं को रेखांकित किया है. उनकी दृढ़ मान्यता है कि कबीर और उनके समय को औपनिवेशिक ज्ञानकाण्ड के षड्यंत्र तथा उससे बनी बौनी बौद्धिकता के भरोसे नहीं, बल्कि देशभाषा के स्रोतों और तत्कालीन समाज के रोज़मर्रा के बोध से ही समझा जा सकता है. दूसरा अध्याय इसी गुत्थी को सुलझाता है. लेखक ने विभिन्न अध्ययनों, शोधों और स्रोतों के आधार पर यह स्थापित किया है कि औपनिवेशिक ज्ञानकाण्ड और इससे प्रभावित-आतंकित बौद्धिकता ने नगरीकरण और व्यापारिक गतिविधियों से भरा-पूरा और अपने समकालीन समाजों से कहीं अधिक समृद्ध और गतिमान समाज को जड़ माना जबकि वास्तविकता इसके बिल्कुल उलट थी. उन्होंने साबित किया है कि भक्ति के व्यापक लोकवृत और व्यापार के विश्वव्यापी विस्तार के पर्यावरण में देशज आधुनिकता की निर्माण-प्रक्रिया तेज़ हो रही थी जिसे औपनिवेशिक सत्ता ने बाद में अवरुद्ध कर दिया.

यूरोपीय आधुनिकता के ही एकमात्र आधुनिकता होने के दावे को पिछले कुछ समय से ठोस चुनौती मिल रही है. देश-विदेश के विद्वानों के निष्कर्षों और अपने अध्ययन और तर्कों से लेखक ने बताया है कि भारतीय समाज को जड़ कहे बिना यूरोपीय श्रेष्ठता के दंभ और उसके औपनिवेशिक लूट को न तो वैचारिक आधार मिल सकता था और न ही उनके व्यापार के लिये फ़ायदेमंद ज़मीन. यह अध्याय हमें अपने इतिहास को सही रूप में समझने के लिये नयी दृष्टि और औज़ार देता है.

तीसरे अध्याय में कबीर के जीवन-वृत्त की पड़ताल है. उनकी कविता और उनसे जुड़ी किंवदंतियों के ज़रिये लेखक कबीर की जीवन यात्रा का मार्मिक वर्णन प्रस्तुत करते हैं. कबीर मगहर में हैं और काशी की याद में तड़प रहे हैं. यह वही कबीर हैं जो यह कह कर काशी छोड़ आए थे कि अगर काशी में मरने-मात्र से स्वर्ग मिलेगा तो फिर इतनी भक्ति का क्या मतलब. उसी कबीर की काशी के लिये तड़प कबीर के व्यक्तित्व का नया आयाम खोलती है जिसमें आत्म-भावनाओं को अभिव्यक्त करने का साहस भी है. ऐसा ही कुछ वह तब कर रहे हैं जब वह हिन्दुओं और मुसलमानों को फूल देकर हमेशा के लिये विदा हो जाते हैं. इसी अध्याय में प्रो. अग्रवाल उन मान्यताओं को ख़ारिज़ करते हैं जिनमें कहा जाता है कि कबीर की आवाज़ हाशिये की आवाज़ है. ऐसे आदमी की आवाज़ हाशिये की नहीं हो सकती जिसकी शिकायत पंडित-मौलवी बादशाह से करें या जिसके चमत्कारों की कथा आज भी कही-सुनी जाती है. जहाँ इस अध्याय में प्रो अग्रवाल अत्यंत रूमानी अंदाज़ में कबीर-कथा कर रहे हैं, वहीं पिछले अध्याय के तेवर भी बरकरार हैं. तथ्यों-तर्कों के बगैर कुछ भी लिख-पढ़ देने वाले विद्वानों की ख़बर लेना वह नहीं भूलते.

अगला अध्याय कबीर की रचनाओं-उपरचनाओं की बहस से मुखातिब है और पांचवें अध्याय में रामानंद और कबीर के गुरु-शिष्य संबंधों का अध्ययन है. इन दो अध्याओं के बाद लेखक कबीर की साधना और भक्ति का विश्लेषण करते हुए साबित करता है कि कबीर को धर्मगुरु, अवतार या पंथ-प्रवर्तक के रूप में देखना उनके साथ अन्याय है. कबीर तो संगठित धर्मों की आलोचना भर नहीं कर रहे थे, बल्कि वह तो धर्म-मात्र के विक्लप की खोज में थे तथा उनकी भक्ति भागीदारी और उच्च मानवीय आदर्शों के पक्ष में खड़ी थी. प्रो. अग्रवाल इस संवेदना और ज्ञान-मीमांसा को तत्कालीन परिवेश में फलित देशज आधुनिकता के घटक के तौर पर देखते हैं और आज के विमर्श को उससे संवाद की सलाह देते हैं.कबीर के नारी-विषयक विचार पसोपेश में डालते हैं. एक तरफ नारी-निंदक कबीर हैं जो साधक को नारी से बचने का निदेश करते हैं, वहीं दूसरी तरफ वह स्वयं नारी बनकर राम का मनुहार करते हैं और वह भी कामपरक और दैहिक शब्दों का सहारा लेकर. प्रो. अग्रवाल इधर-उधर का तर्क देकर या आँख फेर कर इस द्वंद्वात्मक स्थिति से कबीर को बचाने की कोशिश नहीं करते, बल्कि इसे समझने की कोशिश करते हैं. इस कोशिश में वह दो महत्वपूर्ण बात कहते हैं – संस्कारजनित आदर्शों के कारण नारी-निंदा का आग्रह है जो उनकी सीमा है, लेकिन उनकी बेचैनी कविता के अपने स्वभाव और पुरुष शरीर में स्त्रीत्व के अंश होने के चलते उभयलिंगी होने के बोध के कारण उनकी नकारात्मकता से अलहदा प्रेम रचित करती है जिसमें कबीर स्त्री हो जाते हैं. इतना ही नहीं, जिन कारणों से वह साधकों को वर्जित करते हैं, ठीक वही दैहिक संवेदना और इच्छा उनकी कविता में मुखरित होती है. लेखक इस कड़ी में कबीर की प्रेमधारणा में प्रेम की वैचारिकी के बीज देखते हैं जो सामाजिक परिवर्तन को गति दे सकती है.

आखिरी अध्याय कबीर की कविता पर विमर्श है. इसमें कबीर को कवि मानकर पढ़ने की ‘जिद्द’ को समझाने के साथ प्रो अग्रवाल उनके ‘सुनो भई साधो’ संबोधन का निहितार्थ समझाते हैं और उलटबांसी के बारे में लिखते हुए कहते हैं- कविता का अर्थ समग्रता में ही होता है. इसीलिए वह कबीर की कविता में बार बार आए घर और मृत्यु पर विचार करना नहीं भूलते.

परिशिष्ट में कई पद और साखी दिए गए हैं जिन्हें इस किताब को पढ़ लेने के बाद पढ़ना एक अलग ही अनुभूति देता है. निःसंदेह यह किताब कबीर को एक नयी रौशनी में समझने की दृष्टि तो देती ही है, साथ ही अबतक की हमारी ऐतिहासिक समझदारी को भी झकझोर देती है. कबीर के बहाने यह हमारे समय की खोज भी है. यह खोज प्रो पुरुषोत्तम अग्रवाल के लिये भी पूरी नहीं हुई है. इसे तो वह ‘कबीर से संवाद का एक दौर’ कहते हैं. गाँधी के ‘हिंद-स्वराज’ और गुरुदेव के ‘गोरा’ के सौ साल बाद आयी इस किताब को पढ़ना अपने आप से संवाद का एक दौर भी है.

(दैनिक भास्कर में 26 जून 2010 को प्रकाशित)

इस पुस्तक के दूसरे संस्करण पर टिप्प्णी

प्रो. पुरुषोत्तम अग्रवाल की बहुचर्चित किताब अकथ कहानी प्रेम की: कबीर की कविता और उनका समय का दूसरा संस्करण आना सुखद आश्चर्य की बात है. कहानियों-कविताओं की किताबों या उपन्यासों के छपने के साल भर के भीतर बमुश्किल पुनर्मुद्रण की ज़रुरत पड़ती है. आलोचना-विमर्श की किसी किताब का पहला संस्करण अगर दो-चार साल में बिक जाये, यह बड़ी बात मानी जाती है. आम तौर पर यह धारणा है कि हिन्दी की किताबें कम बिकती हैं और यह बात काफी हद तक सही भी है. कबीर पर गंभीर विमर्श करती इस किताब के पुनर्मुद्रण की ज़रुरत छपने के सात महीने बाद ही पैदा हो जाना एक साहित्यिक घटना है. पिछले लगभग साल भर में जिस तरह से ‘अकथ कहानी प्रेम की’ पर बहस हुई है, वह भी कम अनूठी नहीं है. लेखक और प्रकाशक ने पुनर्मुद्रण की जगह दूसरा संस्करण निकलने का जो निर्णय लिया, वह स्वागतयोग्य है. प्रो अग्रवाल की नयी भूमिका पिछले महीनों की लगभग तमाम बहसों पर विचार करती है और लेखक को अपने तर्कों का सन्दर्भ देने और उन्हें स्पष्ट करने का अवसर देती है. इस भूमिका से किताब और उससे उपजी बहसों को संतुलित दायरा और सही दिशा मिलती है.

अकथ कहानी प्रेम की हमें बताती है कि कबीर अपने समय में हाशिये की आवाज़ नहीं थे. जिस तरह से विद्वानों से लेकर विद्यार्थियों तक इस किताब का स्वागत हुआ, उसको देखते हुए कहा जा सकता है कि कबीर आज भी हाशिये की आवाज़ नहीं हैं. ज़रुरत इतनी भर है कि उन्हें आँख खोल कर पढ़ा जाये. नामवर सिंह ने इसे हजारी प्रसाद द्विवेदी की किताब के बाद कबीर पर सबसे महत्वपूर्ण विमर्श माना तो अशोक वाजपेयी ने इसे कबीर का पुनराविष्कार कहा. मध्यकालीन इतिहास के विद्वान हरबंस मुखिया ने इस बात को रेखांकित किया है कि किताब साहित्य और इतिहास के साथ-साथ समाजशास्त्र, मानवशास्त्र और संस्कृति अध्ययन के स्रोतों और समझदारियों की रौशनी में कबीर और उनके समय को देखती है. ओम थानवी के अनुसार किताब आलोचना की नयी भाषा इज़ाद  करती है. फ़िल्मकार श्याम बेनेगल और पत्रकार-सामाजिक कार्यकर्ता जावेद आनंद का आग्रह है कि इस किताब को जल्दी अंग्रेज़ी और मुख्य भारतीय भाषाओं में लाना चाहिए क्योंकि जिस औपनिवेशिक ज्ञानकाण्ड के षड्यंत्र का भंडाफोड़ यह किताब करती है उसका शिकार सिर्फ़ उत्तर भारत नहीं, बल्कि पूरा भारतीय महाद्वीप रहा है. प्रो अग्रवाल ने एक से अधिक बार यह याद दिलाया है कि इस षड्यंत्र के शिकार तमाम गैर-यूरोपीय समाज रहे हैं. नए संस्करण की भूमिका में उन्होंने अफ़्रीका के अनुभवों की चर्चा की है.

भूमिका में प्रो अग्रवाल ने आधुनिकता और उत्तर-आधुनिकता से संबंधित सुधीर चन्द्र, डेविड लौरेंजन, वागीश शुक्ल, मदन कश्यप आदि विद्वानों द्वारा उठाये गए अवधारणा-मूलक सवालों का विस्तार से जवाब दिया है. इस बहाने भूमिका का यह हिस्सा काफी महत्वपूर्ण है. वैसे तो पुस्तक के पाठ में कोई तब्दीली नहीं की गयी गयी है लेकिन छपाई की यत्र-तत्र गलतियों को ठीक कर दिया गया है. भूमिका में लेखक ने जानकारी दी है कि प्रेमदास उतराधा के 1705 ई0 वाले गुटके में संकलित कबीर-बानी का पाठ दादू जी के प्रत्यक्ष शिष्य और प्रेमदास के दादागुरु बनवारीदास जी ने तैयार किया था. यह बात पहले संस्करण के चौथे अध्याय में तो स्पष्ट थी ही, इस संस्करण  में पहले अध्याय में भी इसे साफ कर दिया गया है. रचना-चयन में दो पद और जोड़ दिए गए हैं- जिउ जल छोड़ बाहर भइयो मीना और दूसरा-काग उड़ावत मेरी बांह पिरानी.

दूसरे संस्करण की भूमिका में लेखक के वे तेवर बरकरार हैं जो पिछले संस्करण की भूमिका और किताब के पाठ में हैं. प्रो अग्रवाल के तर्क और तेवर न सिर्फ़ आलोचना की नया कलेवर देते हैं, बल्कि उसका दायरा दूर तक बढ़ा देते हैं. इनसे प्रो अग्रवाल की उस बेचैनी का भी पता चलता है जो इस समझ से पैदा हुई है कि किस तरह हम अपने को उस दृष्टि से देख रहे रहे हैं जिसकी सृष्टि सुदूर यूरोप के सभ्यतागत स्वार्थों की सिद्धि के लिये हुई थी. यह बेचैनी तब और बढ़ जाती है जब लेखक देखता है कि हम यह जानते हुए भी इस षड्यंत्र को कितनी सहजता से लेते हैं और कई बार तो उसकी तरफ़दारी भी करते हैं. इतिहास की सतत समकालीनता का बोध करती यह किताब सभ्यता-समीक्षा की एक कोशिश है और यह सिर्फ़ इस किताब तक सीमित नहीं है- न तो लेखक के लिये और न ही हमारे लिये.

(दैनिक भास्कर में 11 सितम्बर 2010 को प्रकाशित)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s